डाक्टर की एक और लापरवाही इस बार हैदरगढ़ की वंदना के साथ

ग्रामीण स्वास्थ्य व्यवस्था को सभी के लिए अधिक उपयोगी बनाने के लिए सरकार ने हर इकाई पर एक स्वास्थ्य केंद्र बनाया हुआ है। लेकिन अफ़सोस की बात है कि गांव वालों तक इन स्वास्थ्य केन्द्रों की सुविधाएँ नहीं पहुँच रही। ताज़ा मसला जिला बाराबंकी, ब्लाक त्रिवेदीगंज, गांव नवीपुर का है जहाँ डॉक्टर की लापरवाही की वजह से मरीज वन्दना का बुरा हाल है।

वंदना के गुप्तांग में घाव हो गया था जिसके लिए उसने पास के ही हैदरगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से इलाज कराया। इलाज से पहले डॉक्टर ने कहा कि ज्यादा परेशानी की दिक्कत नहीं है मैं ठीक कर दूंगा। लेकिन ऐसा हुआ नहीं!

वंदना के ससुर राजकुमार ने बताया कि डॉक्टर ने पहले तो कह दिया कि दो मिनट का काम है जल्द हो जायेगा लेकिन जब उन्हें कहे चार हजार रूपये हम देने से मना करने लगे तो वह नाराज़ हो गये और उन्होंने ऑपरेशन के दौरान कच्चा मांस ही काट दिया । जिससे वंदना का बहुत खून बह गया।

वंदना कहती हैं, डॉक्टर ने जल्दबाजी में टाँके लगा दिए जो बहुत दुखते हैं। न मैं बैठ पाती हूँ और न ही कुछ काम कर पाती हूँ। पहले से ज्यादा परेशान हूँ।

राजकुमार कहते हैं, सरकार ने गरीबों के लिए अस्पताल में ही दवा का इंतजाम किया है लेकिन हमने करीब 8000 की सारी दवाएं बाहर से ली हैं। अब गरीब कहाँ से इतना पैसा लाये।

अपनी लापरवाही और इस पूरे मामले पर हैदरगढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सर्जन डॉक्टर एम। के। गुप्ता का रवैया बड़ा ही लापरवाह भरा लगा। उन्होंने कहा, कि हमारे यहाँ ऐसा कोई केस नहीं आया और न ही मैंने कोई ऑपरेशन किया है। आप रजिस्टर देख सकते हैं और जो भी ऐसा कह रहा है वो झूठ बोल रहा है।

मजबूर वंदना अब लखनऊ में अपना इलाज कराने की कोशिश कर रही हैं। आशा है वहां से उन्हें निराश नहीं लौटना पड़ेगा।

 

जिला बाराबंकी, ब्लाक त्रिवेदीगंज, गांव नवीपुर ग्रामीण स्वास्थ्य व्यवस्था का दुरुस्त करै के ताई सरकार हर ग्राम पंचायत मा स्वास्थ्य केंद्र कै निर्माण कराये बाय। लकिन अफसोस कै बात बाय की येहि स्वास्थ्य केन्द्रन कै सुबिधा मनइन का मिल नाय पावत बाय। अक्सर डाक्टर के लापरवाही के खबर हमै मिला कराथै।अबहीं हाल ही मा त्रिवेदीगंज के वंदना के गुप्तांग मा घाव होईगा बाय। इलाज करावै वंदना हैदरगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गई। आरोप बाय कि कम पैसा दिये के कारण डाक्टर इलाज मा लापरवाही करिस जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मा मुफ्त इलाज हुआथै।जिला बाराबंकी, ब्लाक त्रिवेदीगंज, गांव नवीपुर  ग्रामीण स्वास्थ्य व्यवस्था का दुरुस्त करै के ताई सरकार हर ग्राम पंचायत मा स्वास्थ्य केंद्र कै निर्माण कराये बाय। लकिन अफसोस कै बात बाय की येहि स्वास्थ्य केन्द्रन कै सुबिधा मनइन का मिल नाय पावत बाय। अक्सर डाक्टर के लापरवाही के खबर हमै मिला कराथै।अबहीं हाल ही मा त्रिवेदीगंज के वंदना के गुप्तांग मा घाव होईगा बाय। इलाज करावै वंदना हैदरगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गई। आरोप बाय कि कम पैसा दिये के कारण डाक्टर इलाज मा लापरवाही करिस जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मा मुफ्त इलाज हुआथै। राजकुमार वंदना के ससुर कै कहब बाय कि बंदना का अस्पताल मा देखावै लै गयन गुप्तांग मा जरा सा घाव होइगा रहा सिर्फ टांका लगवावै का रहा।डाक्टर बोले दुई मिनट के काम बाय सही होय जाये लखनऊ न लै जा। ई हमरे बाएं हाथ के खेल आय सही के दियब। चार हजार रुपया के मांग करिन। दुई हजार रुपया देहे के वजह से नाराज होइगये अउर कच्चा मांस काट दिहिन। जेसे काफी खून निकरी गा अउर उठब बैठब मुश्किल भा बाय। जवन टांका लगाये रहे उहौ टूटगा।इलाज के बाद मरीज का एक दिन काव आधा घन्टा भी नाय रहै दिहिन। दुसरे दिन फिर लै जाय पै मरीज का देखिन नाय। मरीज वंदना कै कहब बाय कि आपन दिनचर्या कै काम नाय कै पावत हई। न ही बच्चन कै देखभाल। शौचालय जाय मा काफी दिक्कत बाय। सही से बैठ नाय पाइत। राजकुमार वंदना के ससुर कै कहब बाय कि गरीब मनई पैसा के अभाव मा येहि केंद्र पै जाथिन लकिन येहि हर एक दवा बाहर से लिखी जाथै। वंदना के इलाज के ताई लगभग आठ हजार कै दवाई बाहर से लिखिन। कहिन अस्पताल के अन्दर कै दवा फायदा नाय करत। अउर तौ अउर बिना पैसा आपरेशन नाय करते। डाक्टर एम. के. गुप्ता सर्जन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हैदरगढ़ कै कहब बाय कि हमरे हियां यहि नाम कै कउनौ केस नाय आय बाय। जितना भी केस आवाथै रजिस्टर मा दर्ज रहाथै। डाक्टर आपन लापरवाही मानै के बजाय येहि मरीज के आपरेशन तक कै बात नकार गये।जेसे अब वंदना के परिवार वाले बंदना कै इलाज लखनऊ करावे के तैयारी मा बाटे। आशा बाय कि वंदना कै वहि सही इलाज होय पाये।

रिपोर्टर- नसरीन

 

12/06/2017 को प्रकाशित