डाकुओं ने फिर मचाया आतंक, तीन लोगों को जिंदा जलाया

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, भरतकूप, गांव टेढ़ी डकैतन का आतंक बढ़त जात हवै। हद होइगे जबै भरतकूप के कोल्हुवा जंगल मा डकैत तीन मड़इन का जिंदा जला दिहिन हवै। 30 जून का रामप्रसाद जंगल मा लकड़ी ले गा रहै अउर 25 जून का मुन्ना यादव का डकैत पकड़ लइ गे रहै बाद मा इं मड़इन के 4 जुलाई का लाश मिली हवै। जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, भरतकूप, गांव टेढ़ी डकैतन का आतंक बढ़त जात हवै। हद होइगे जबै भरतकूप के कोल्हुवा जंगल मा डकैत तीन मड़इन का जिंदा जला दिहिन हवै। 30 जून का रामप्रसाद जंगल मा लकड़ी ले गा रहै अउर 25 जून का मुन्ना यादव का डकैत पकड़ लइ गे रहै बाद मा इं मड़इन के 4 जुलाई का लाश मिली हवै।  एस.पी.प्रताप गोपेन्द्र का कहब हवै कि मध्य प्रदेश के डाकू ललित पटेल का काम आय। डाकू के मन का काम नहीं होत तौ उंई यहै काम करत हवै। सरकारी काम मा कमीशन न मिले के कारन अउर गांव मा खाना न मिले के कारन उंई गांव वालेन का जान से मारत हवै अउर घायल कइ देत हवै। ललित पटेल ठोकिया का मौसेरा भाई आय। वहिके ऊपर 30 हजार का इनाम हवै। या घटना के बाद मड़ई अउर ज्यादा डेरा गे हवैं। पुलिस आपन काम करे मा लाग हवै।  गुलबिया का कहब हवै कि 30 जून का मोर मनसवा रामप्रसाद जंगल लकड़ी ले गा रहै जबै दुपाहरी तक वापस नहीं आवा तौ वहिका गांव के मड़इन साथै ढूढ़े गइंव। जबै कत्तौ पता नहीं चला आय तौ नया गांव थाना मा सूचना दीनेव पै हुंवा के पुलिस कुछौ सहयोग नहीं करिस आय।  4 जुलाई का पुलिस जंगल मा मिली तीन लाश पहिचाने का बोलाइन तौ चुनौटी अउर साफी से मोर मनसवा रामप्रसाद के लाश का वहिके परिवार वाले पहिचान गे हवै। हिंया पुलिस चौकी 30 किलोमीटर दूरी हवै। पुलिस चौकी अउर पास मा होवै का चाही। जेहिसे इनतान के घटना न हो।  यहिनतान मानिकपुर ब्लाक, गांव लक्ष्मनपुर के मड़ई भी डकैतन के दहशत से परेशान हवैं।काहे से 14 मई2017 का दीपा नाम के लड़की के शादी मा डकैत बहुतै मारपीट करिन हवै यहै कारन गांव के मड़ई गांव छोड़ के जाये का मजबूर हवै काहे से अबै तक या घटना के कउनौ कारवाही नहीं भे आय।पी.ए.सी जवान का हुंवा लगावा गा हवै जहां गांव वालेन का जरूरत नहीं आय। दीपा के दादी केसरिया बतावत हवै कि अबै तक दुइ दरकी पुलिस आयी हवै।घटना के चार दिना बाद मड़ई गांव छोड़ के चले गे हवै। संतोषिया बताइस कि जेहिके लगे रहे खातिर दूसर  जघा हवै उंई चले गे हवै पै हमरे लगे कुछौ नहीं आय यहै खातिर हम हिंया रहै का मजबूर हन जेहिका मारे का होय तौ मार डालें। डकैतन के डेर से पढ़े नहीं जा पावत आहूं पुलिस घटना होय के बाद आवत हवै। छंगी बताइस कि पुलिस सुनत आय न गांव वाले सुनत आहीं। भगवान के भरोसे रहित हन। अब सरकार कुछ कइ सकत हवै। अपर एस.पी बलवन्त चौधरी का कहब हवै कि घटना के रपट लिख लीन गे हवै। अउर यहिमा  बबली कोल अउर लवलेश कोल के गैंग के मड़ई शामिल रहै इं डकैतन  का जल्दी पकड़ा जई।

रिपोर्ट- खबर लहरिया ब्यूरो

Published on Jul 7, 2017