टूटी नहर से किसान बेहाल, जिला बाँदा ब्लाक महुआ में खराब होती फसलों के साथ मायूस होते चेहरे

कत्तौ मौसम किसानन का दिल तोड़त है तौ कत्तौ बिना मौसम बरसात फसल का डुबो देत है।ओला भी कत्तौ-कत्तौ फसल बर्बाद करत है।सरकारी अधिकारी के सुस्ती के कारन भी फसल तैयार नहीं होइ पावत आय।बांदा जिला ,ब्लाक महुंवा, गांव दशरथपुर अउर मुगौड़ा से नहर निकली है। यहै नहर से हेंया के नब्बे प्रतिशत किसान खेती करत है। पै या नहर पचास मीटर तक जघा-जघा टूट है। यहै कारन सैकड़न बीघा खेती बिना बोय पड़ी है। नहर बनवावै खातिर किसान कइयौ दरकी मांग करिन है। पै विभाग ध्यान नहीं देत आय।
शिवकुमार का कहब है कि हमार पूर फसल सूख गे है। खेतन मा पर्ती पड़ गें है। दयाराम का कहना है कि मोर पांच बीधा जमीन मा पर्ती पड़ गे है पै विभाग कुछौ कारवाही नहीं करत आय। अभिलाष कुमार अग्निहोत्री का कहब है कि नहर बांधी तौ जात है पै तुरतै टूट जात है। नहर विभाग अउर तहसील दिवस मा कइयौ दरकी दरखास दे के बादौ कउनौ अधिकारी नहीं सुनत आहीं। सिंचाई विभाग के जेई गरुण देव का कहब है कि नहर मा सफाई का काम चलत है, एक दुई महीना मा बन जई।  

रिपोर्टर- गीता देवी

Published on Jan 22, 2018