टंकी नहीं सफाई, गंदा पानी पियै का मजबूर

taja pani tanki copyजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, कस्बा कर्वी। हिंया रेलवे स्टेशन मा पानी के टंकी बनी हवै, पै वहिके सफाई समय से नहीं कीन जात हवै। यहिसे मड़ई अउर रेलवे करमचारिन का गंदा पानी पियै का परत हवै।
रगौली गांव के सोहन का कहब हवै कि पानी गंदा गंदा आवत हवै। पानी के टंकी खुली भी हवै। वहिमा गर्मी के समय बंदर कूद कूद के नहावत हवैं। कबूतर भी वहै टंकी के पानी मा हगत हवै। यहिसे गंदा पानी पियै से यात्री बीमार होइ जइहैं।
कुछ रेलवे वालेन का कहब हवै कि पानी के टंकी के सफाई न होय से हमका गंदा पानी मजबूरी मा पियै का परत हवै। पानी तौ दिन भर मा कइयौ दरकी पियै का परत हवै। या कारन से कहां तक पानी के बोतल खरीद के पियब। यहिसे पानी के टंकी के सफाई होब जरुरी हवै। नहीं तो रेलवे विभाग वाले एक दिन सबै बीमार होइ जइहै।
रेलवे पंप आपरेटर रामगोपाल का कहब हवै कि मोर जिम्मेदारी टंकी मा पानी भरै के हवै। पानी के टंकी सफाई करै वाला दूसर हवै। वा पानी के टंकी के सफाई करत हवै। अबै हाल मा पंद्रह दिन पहिले पानी के टंकी के सफाई कीन गे रहै।
रेलवे विभाग के वरिष्ठ अभियंता शिव सिंह का कहब हवै कि सात दिन के भीतर पानी के टंकी के सफाई करवा दीन जई। हमारे हिंया से रोजै पंप आपरेटर पानी के टंकी का देखत हवै कि पानी तौ गंदा नहीं आय।