झांसी वालो, आ गई लम्बी छुट्टी? गुजिया खाने का इससे अच्छा बहाना क्या हो सकता है?

जिला झांसी, शहर झांसी,  गुजिया तो सबने खाई हुए लेकिन रज्जाक के गुजिया की बात बात ही अलग हे। का खास हे जा गुजिया में आओ जाने।जिला झांसी, शहर झांसी गुजिया तो सबने खाई हुए लेकिन रज्जाक के गुजिया की बात बात ही अलग हे। का खास हे जा गुजिया में आओ जाने। रज्जाक दुकानदार ने बताई के दुकान तो हमाई बोहतई पुरानी हे लेकिन गुजिया को काम अबे करन लगे चार साल से हम ओरे गुजिया में खोवा ज्यादा भरत और ताजो भरत बाकि सब दुकान इतनो माल नइ दे पात। जासे हमाई गुजिया ज्यादा प्रसिद्ध हे। गुजिया लेबे के लाने आस पास के आदमी आत खाबे के लाने भी। दीपक और सैय्यद ग्राहक ने बताई के हमने तो केऊ बार खाई हम तो खात ही रत। मोनू ने बताई के हम तो रोज खाबे के लाने खुशीपुरा से आत।

रिपोर्टर- सोनी

Published on Aug 11, 2017