झांसी में तीन साल की लड़की देखने और सुनने में असमर्थ

जिला झांसी, शहर झांसी, जालौन जिला के किशन बीस साल पहले झांसी बी एच इ एल कम्पनी में काम करबे आए। तीन साल पहले काम करत में किशन को हाथ जल गओ जी के बाद किशन को काम से निकार दओ।
किशन की तीन साल की मोड़ी बीमार हो गयी। जी से अब न तो बो देख पा रई न चल पा रई। बाको इलाज कराबे के लाने तक रुपईया नईया। और फीस के रुपईया जमा न करबे से मोड़ी मोडन को स्कूल से निकार दओ। किशन ने कम्पनी के ऊपर केश भी करो और आज भी बो फैसला के इन्तजार में हे।
रानी ने बताई के हम इते बीस साल से रह रहे अब उनको हाथ जल गओ सो न नौकरी में ले रहे न ठेकेदार फण्ड दे रहो हमाओ।
और हम ओरे सो परेशान हो रए। मोड़ी को दिखाबे के लाने दूसरे से मांग के ले गये ते दो तीन सौ सो बेई खर्च हो गये। और डॉक्टर ने इलाज तक नई करो। बे कह राई के रुपईया जमा करो। जबई इलाज हो पेहे।
कुम कुम ने बताई के स्कूल में मैडम को सबको पतों के एसी परशानी हे फिर भी नई बैठन देत। बा बार तो पापा गये ते सो परीछा में बैठ जान दओ तो। अब जा बार पतो नई बैठन देत के नई।
एक दिन हमने कई के लेओ प्रिया जो रुपईया ले जाओ सो बो लेबे नई आ पाई जब हम ओरन को पतों चलो के प्रिया को दिखा नई रओ। फिर बई दिन हम ओरे खेराती में ले गये फिर उते से डॉक्टर ने कई के मेडिकल ले जाओ सो उते ले गये।
उते ले गए सो बे केन लगे के भर्ती कर दो और रुपईया जमा करो सो मम्मी पापा ने कई के फ्री वालो करदो हम ओरन नो रुपईया नईया।

रिपोर्टर- सफीना

22/10/2016 को प्रकाशित