झाँसी जिले का बिजौली गांव, जहां आज भी नहीं है रहने को घर

झांसी जिले का बिजौली गांव में चार सौ परिवारों को आवास  नहीं मिले हैं। लोग अभी भी कच्चे घरों में रह रहे हैं। लोगों ने कई बार आवास की मांग की है, पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है। नगरनिगम के जनसूचना अधिकारी का कहना है कि आवास के लिए सत्यापन हो चुके हैं। पात्र लोगों को आवास दिए जायेगें।
करतार का कहना है कि यहां रहनें वाले तीन-चार सौ लोगों को आवास नहीं मिलें हैं। लोग अपने हाथ से झोंपड़ी बनाकर रह रहे हैं। विमला ने बताया कि छोटे से घर में गुजरा नहीं होता है। मेहमान आ जाते हैं तो बैठाने की जगह नहीं रहती हैं।लक्ष्मण का कहना है कि आवास के लिए सात बार फार्म भरा है। फिर भी आवास नहीं मिला है।राम देवी का कहना है कि वोट लेने आ जाते है लेकिन कुछ काम नहीं करवाते है और न अपनी मर्जी से वोट डाल पाते है। सुंदर का कहना है कि ज्यादा बात करो तो धमकी देते हैं जिससे गरीब लोग डर जाते हैं।
रिपोर्टर- सुषमा

Uploaded on Dec 29, 2017