जान से मारैं के करिन कोशिश

रतिया बतावत समस्या
रतिया बतावत समस्या

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव किहुनिया का कालोनी पुरवा। हिंया के रतिया बताइस की 2 नवम्बर 2014 का वा टेढ़वा जंगल मा तेइस छेरी लइके चरावैं गे रहै तौ सात बदमाश वहिका साड़ी से एक पेड़ मा बांध के जान से मारैं के कोशिश करिन। वहिके पूरी छेरी लइगे हवंै। यहिके सूचना मााकुन्डी थाना मा दीेन हन तौ कारवाही करैं का कहिन हवंै।
हिंया के रतिया का कहब हवै कि जंगल मा छेरी चरावत समय सात बदमाश मोरी छेरी लई जाय लाग। मैं मना करेंव तौ मोहिका खूबै मारिन अउर मोरे साडी से मोहिका पेड़ मा बंाध के चले गें हवै। जबै मैं शाम के घरै नहीं पहुंचिव तौ मोहिका मोर घर के मड़ई अउर गांव वाले चुनकावन बिट्टी, विजय सबै मड़ई वोड़ा जला के पता करैं खातिर अउर ढूढ़ै गे रहै। उंई वोड़ा जला के रात मा आठ बजे जंगल मा चिल्ला चिल्ला के बोलावत रहै अउर मोहिका वहे समय होस आवा रहै तौ मैं आवाज लगायेव तौ उंई मोहिका लइगे हवै। बदमाशन के खिलाफ मारकुन्डी थाना मा रपट लिखावा हवै। अबै तक कउनौ करवाही नहीं भे हैं।
मारकुन्डी थाना के बड़े दरोगा मनीषचन्द्र का कहब हवै कि सूचना मिली हवै। अज्ञात मा रपट लिखके धारा 506 जान से मारैं के धमकी लाग हवै। अबै गांव मा पूछ ताछ चलत हवै। यहिके बाद कारवाही कीन जई।
दुसर घटना ब्लाक मानिकपुर, कस्बा भौंरी मा भे हवै। हिंया के नेहा का कहब हवै कि तीन बदमाश वहिके घर मा 31 अक्टूबर 2014 का रात सात बजे घुस के वहिके साथै बहुतै मारपीट करिन हवै। यहिके रपट रैपुरा थाना मा 1 नवम्बर 2014 का लिखाइस हवै।
रैपुरा थाना के दिवान गोरेलाल का कहब हवै कि अज्ञात मा मुकदमा लिखा हवै। धारा 452 (घर में घुसना), 323 (मारपीट) लाग हवै। जांच चलत हवै। उंई पकड़े जइहैं तौ कारवाही कीन जई।