जान लेने को तैयार, बिजली के जर्जर तैयार, झाँसी जिले के सिमरवारी गांव में

20 अक्टूबर 2017 को प्रकाशित
जिला झाँसी,ब्लाक बबीना,गांव सिमरावारी। यहां सात  सालों से बिजली के जर्जर तार लटक रहे हैं। नीचे लटकते इन तारों  से हर समय कोई बड़ी घटना होने का डर बना रहता हैं। यहां के लोगों ने कइ बार विभाग से तार बदलने को कहा हैं।एस.डी.ओ का कहना है कि वहां के लोग तार नहीं बदलनें देते हैं। आरोप और प्रत्यारोप के बीच सिमरावारी गांव में इस समस्या का अभी तक कोइ हल नहीं निकला है। विजय सिंह चौहान और आशीष का कहना है कि बिजली के जर्जर तारों के कारण हर मौसम में इनके गिरनें का डर लगा रहता हैं। आरजू ने बताया कि दो बार तार गिरने से एक गाय और कुत्ता को करेंट लग गया है।एक बार मैं भी करेंट लगने से बच गयी थी। शांति ने बताया कि एक साल से पुराने तार टूट –टूट कर गिर रहे हैं तार टूटनें से बिजली चली जाती है। डाक्टर शरण कुमार प्रजापति का कहना है कि चार-पांच बार तार टूट कर गिर चुकी है लेकिन विभाग ध्यान नहीं देता है।

बाईलाइन-सफीना