जानवरन में फेली बीमारी

taza peza photo copyजिला महोबा, ब्लाक पनवाड़ी, गांव बुडेरा। एते लोगन खा आरोप हे कि उनके गांव में जानवरन कि गला घोटू कि बीमारी पन्द्रह दिन से फेली हे। ऊखे लाने पशु विभाग कोनऊ ध्यान नई देत हें।
गांव कि कस्तुरी ने बतओ कि मोयी दो भैसिया हती सानी बना खे खवाउत रहत हती छोटी सी पड़िया आ खरीदी हती तीन लड़की दो लड़का हे मोओ पति लाल सिंह दिल्ली कमाए जात हे हम अकेले भैसियन के भरोसे रहत हते इनके उसार में लगे रहत हते बिटिया की शादी बीस जून की हे तो सोचत हते की एक भैंसिया बेंच देबे बिकाऊ भी कर दई हती। जब खरीद बे वाले आये तो हमाई लड़किया ने भैंस बेचे से मना कर दओ हतो जिसे मैंने भैंसिया नई बेची एक दिन भैस अचनक बीमार भई सो उने कछू नई खाओ सुबह तुरते डाक्टर. खा फोन करो तो डाक्टर. आओ ओर दवा देखे चलो गओ शाम दूसरी भैंसी बीमार हो गई एक श्ैस शाम खे मर गई दुसरी सबेरे मर गई । जीसे हमे लाख रूपइया को घटा लागो हे। मातादीन अहिरवार कहत हे की मोयी भैंसिया भी चार जून खा शाम खे बीमार हो गई हती चारा नई खात ती सो हमने मीठो तेल पिवा दओ हतो सबेरे जब डाक्टर. खा बुलाओ सो उके गले से दवा भी नई जात हती ओर मर गई।
पशु विभग के डाक्टर. प्रमोद कुमार कहत हे की 6 तारीख खा गाड़ी लखनऊ दवा उठाने गयी हे दो दिन में जब दवा आ जाये गी तो टीका एक दिन में दो गांव में लग जाये हे लग जायेंगे।

 

रिपोर्टर – सुरेखा राजपूत