जाँच: गौरी लंकेश और कलबुर्गी की एक ही बंदूक से हुई थी हत्या

फोटो साभार: फेसबुक/गौरी लंकेश

गौरी लंकेश की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा सामने आया है एक अंग्रेजी अख़बार के अनुसार, फरेंसिक साइंस लैब की शुरुआती जांच में ये बात सामने आई है कि दो साल पहले कन्नड़ लेखक एमएम कलबुर्गी की हत्या में जो 7.65 एमएम की बंदूक इस्तेमाल की गई थी, ठीक वैसी ही बंदूक गौरी लंकेश की हत्या में भी इस्तेमाल हुई है
इस मामले की जांच स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) कर रही है ऐसे में फॉरेंसिक जांच की एसआईटी को सौंप दी गई है
बता दें कि गौरी लंकेश की हत्या 5 सितंबर को बेंगलुरु स्थित उनके घर के बाहर हुई थी गौरी जब अपनी गाड़ी पार्क कर रही थी, तब ही अज्ञात हमलावर ने उनपर गोली चला दी गोली लगने के बाद गौरी की मौके पर ही मौत हो गई थी पुलिस ने 4 कारतूस भी घटना वाली जगह से बरामद किया था
वहीं, 30 अगस्त 2015 को रात के 830 बजे कन्नड़ स्कॉलर और हंपी यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर एमएम कलबुर्गी को नार्थ कर्नाटक के उनके घर धारवाड़ में कुछ अज्ञात बंदूकधारी ने गोली मारकर हत्या कर दी थी
लेकिन इस मामले में एक चौंकाने वाले बात ये सामने आई थी कि जिस बंदूक से कलबुर्गी की हत्या की गई थी, वो बंदूक महाराष्ट्र के कम्युनिस्ट नेता गोविंद पानसारे की हत्या में भी इस्तेमाल किया गया था