जब हैण्डपम्प हो ख़राब तो कैसे बुझे प्यास? देखिये वाराणसी के नरायनपुर प्राथमिक विद्यालय की खबर

पेयजल व्यवस्था को ठीक करने के लिए योगी सरकार ने एक हफ्ते के अंदर बिगड़े हैन्डपम्पों को सुधारने के लिए निर्देश दिये हैं, लेकिन जिला वाराणसी, ब्लाक चिरईगांव के प्राथमिक विद्यालय नरायनपुर में दो महीना से बदबूदार पानी और बालू दे रहे हैन्डपम्प की आज तक मरम्मत नहीं हुई है।
शिवानी कुमारी ने बताया कि दो-तीन महीने से हैन्डपम्प खराब हैं तो बहुत दूर पानी पीने के लिए जाना है। अंकित का कहना है कि हैन्डपम्प से गंदा पानी निकलता है और महकता भी है। इसलिए बहुत दूर पानी के लिए जाते हैं तो वहां भी लोग डांटते हैं। अंजली ने बताया कि हैन्डपम्प के गंदे पानी से खाना बनाते है तो खाना किरकिराता है।
हेडमास्टर दिनेश कुमार का कहना है कि हैन्डपम्प बनवाने के लिए ग्राम प्रधान से कहा है और ब्लाक में भी सुचना दी है।
खण्ड शिक्षा अधिकारी रविशंकर का कहना है कि हैन्डपम्प बनाने के लिए ग्राम प्रधान और जल निगम की जिम्मेदारी है।

रिपोर्टर- अनामिका

published on Mar 13, 2018