जब खाने के लिए रोटी न हो तो लोग शौचालय कैसे बनवाएंगे? ललितपुर जिले के पाली नगर पंचायत का मामला

जब खानें के लिए रोटी न हो तो लोग शौचालय कैसे बनायेगें ? ये कहना है जिला ललितपुर, ब्लाक बिरधा, गांव नगर पंचायत के लोगों का। नगर पंचायत अध्यक्ष राजकुमार चौरसिया का कहना है कि पाली में साढ़े तीन सौ शौचालय बन गये हैं और एक सौ बहत्तर शौचालय में काम शुरू है। जब लोग शौचालय में सीट लगा देते है तब दूसरी क़िस्त का पैसा भेजा जाता है। ज्यादा गरीब लोग जो अपने से सीट नहीं लगवा सकते हैं, उनको दूसरी क़िस्त का पैसा जल्दी भेजा जायेगा।
राजू का कहना है कि गड्ढा तो खुद गया है लेकिन अभी दूसरी क़िस्त का पैसा नहीं आया है। खुदे गड्ढ़े में बच्चें गिर जाते हैं। हमारे पास इतना रुपिया नहीं है कि अपने से शौचालय बना सकें। बड़ी बहु का कहना है कि हम शौच के लिए नाली नरवा में जाते हैं। जो थोड़ी बहुत पैसे होते है तो बीमारी में खर्च हो जाते है। नारायण का कहना है कि हमें शौच के लिए बहुत दूर जाना पड़ता है। राम बाई ने बताया कि जब खेतों में फसल नहीं होती है तो शौच जाने के लिए जगह मिल जाती है, अगर फसल बोई रहती है तो शौच जानें में बहुत परेशानी होती है।

रिपोर्टर- कल्पना

Published on Mar 5, 2018