जनता के साथे एसो काय होय

उत्तर प्रदेश में जा समय राशन कार्ड बनत हे जीसे गरीब आदमियन खे खुशी होत हे कि राशन कार्ड बने से ऊखे परिवार खे पाले के लाने कछु सुविधा हो जेहंे। पे सुविधा मिले के पेहले ही ऊखो फायदा बीच के बिचोही उठा लेत हें।
महोबा जिला के दो सो उनसठ गांवन में राशन कार्ड को सर्वे आधे अप्रैल से शुरू हो गओ हतो। सर्वे करने वाले कर्मचारी पूरे गांव में सर्वे नई करत हें । जित्ते गांव में सर्वे करत भी हे तो ऊ गरीब आदमियन से दस से बीस रूपइया हर आदमी से लेत हे । महोबा जिला के कबरई ब्लाक के कहरा गांव में ओर चरखारी ब्लाक के बम्हौरी कलां में राशन कार्ड को सर्वे करने वाले कर्मचारी गरीब आदमियन से दस से बीस रूपइया ले चुके हे। जा हाल केऊ गांवन को हें। सर्वे करें में सरकार के एते से राशन कार्ड बने के रूपइया ले को कोनऊ नियम नइयां।
नियम के हिसाब से राशन कार्ड बने के बाद पीले राशन कार्ड में दस रूपइया ओर सफेद राशन कार्ड में पांच रूपइया लगत हे। बीच के कर्मचारी गरीब जनता के साथे एसो काय करत हें? का सरकार उनखे वेतन नई देत हे? सरकारी कर्मचारी अपने पद का गरीब जनता की मजबूरी को फायदा काय उठाउत हे? सरकार खे चाही की ऊ राशन कार्ड बनवाए के काम में कछू एसो बदलाव लाए जीसे आम जनता ई परेसानी से दूर हो जाए।