छेड़ खानी का पहला शिकार – लड़कियों की तालीम चित्रकूट के बरगढ़ के मस्तान बाबा पर छेड़ खानी का आरोप

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, कस्बा बरगढ़ पढ़ाई के समय छेड़खानी होय से 52 प्रतिशत बिटिया आगे पढ़ नहीं पावत आहीं। छेड़खानी करै वालेन के ऊपर तौ कुछौ कारवाही नहीं होत पै गाज गिरत है बिटियन के ऊपर उनका आपन पढ़ाई छोड़े का पड़त हवै। 7 साल से मदरसा मा अरवी पढ़ावे वाला बाबा क़ुतुबउदद्दीन के ऊपर आठ बिटिया छेड़खानी का आरोप लगाइन हवै।
मदरसा मा पढ़े वाली बिटिया बतावत हवै कि बाबा हमरे साथै छेड़खानी करत हवै। मुड़े मा हाथ रखत हवै तौ पूर शरीर का छुवत नीचे तक लावत हवै। तबै हम डेरा के दूरी सरक जइत हन। बाबा हमें खाना खाये का कहत हवै। जबै हम कहित हन हम खाना खा के आये हन तौ वा कहत हवै कि खाना दुइ तान का होत हवै जिस्मानी अउर रुहानी खाना पर्दा मा खावा जात हवै। एक दरकी बाबा हमें आपन कुिटया मा लेवा गा रहै अउर कहत रहै कि आपन कपड़ा उतारो।
बिटिया के महतारी का कहब हवै कि बाबा बिटियन का कुरान के कसम खवावत रहै अउर कहत रहै कि आपन घर मा कुछौ न बतायेवं नही तौ तुम्हार महतारी बाप मर जइहैं यहै कारन मारे डेरन के बिटिया कुछौ नही बतावत रहैं।
बाबा गांव घर के आहीं बिटिया दादा, नाना अउर मामा कहि के बोलावत रहै अउर सब कोउ विश्वास करत रहै, पै इनतान के छेड़खानी के बात सुन के बिटियन का पढ़ाउब बंद कइ दीने हन। अब्दुल हमीद अउर अंसार अहमद का कहब हवै कि तीन साल पहिले बाबा का रंगे हाथ पकड़े रहेन तबै वा हमैं झूठ साबित कइ दिहिस रहै ।
बरगढ़ दरोगा सुभाष चन्द्र चौरसिया का कहब हवै कि धारा 444 के अउर पास्को कानून के धारा 8 के तहत मुकदमा दर्ज होइगा हवै अदालत के बयान के बाद आगे के कारवाही कीन जई।

रिपोर्टर- सुनीता देवी

24/04/2017 को प्रकाशित