चित्रकूट में बज गया बाराबंकी का ढोल

फिल्म मा हीरों का ढोलक बजावत देखके बहुतै नींक लागत हवै। जानत हौं ढोलक का असली हीरो को आय। ढोलक का असली हीरो ढोलक बनावें वाला आय। चित्रकूट जिला या समय बाराबंकी जिला के रहै वाले सिकन्दर ढोलक बनावें का काम करत हवैं। ढोलक बनावें का हुनर सिकन्दर कहां से सिखिस हवै आओ जानित हवै।
सिकन्दर का कहब हवै कि पहिले हमार बाप दादा ढोलक बनावें काम करत रहैं फेर हम हूं ढोलक बनावें का काम सीखा हवै। हम नई पुरान सबतान के ढोलक बना लेइत हवै। ढोलक बनावें खातिर चमड़ा, रस्सी, छल्ला, लकड़ी के बीम अउर मसाला सब लागत हवै। हम पढ़े लिखे नहीं आहीं बस ढोलक बनावें काम करें का हवै। काहे से या हमार पुस्तैनी काम आय। शादी ब्याह के सीजन मा ढोलक ज्यादा बिकत हवै काहे से शादी ब्याह मड़ई गावत बजावत हवै। हमरे लगे अलग-अलग दाम के ढोलक हवै मड़इन के पुरान ढोलक भी बनाइत हवै।
रिपोर्टर-सहोद्रा

Published on Dec 18, 2017