चित्रकूट जिले में अंग्रेज के जमाने का बना गोल तालाब आज भी लोगों के मन को कर रहा है गोल

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव कसहाई, मजरा कुंजन पुरवा। अंगेजन के जमाना मा हिंया गोल तालाब बनावा गा रहै गोल तालाब मा आसपास के इलाका से बहुतै मड़ई हिंया कपड़ा धोवे अउर नहाये आवत हवैं रविवार के दिना तौ हिंया येत्ती भीड़ लागत हवैं कि मड़इन का दुइ-दुइ घंटा नहायें खातिर इन्तजार करे का पड़त हवैं कार्तिक के महीना मा एकादशी के दिना हिंया मेला लागत हवै। मेला मा  जलेबी अउर मिठाई के दुकान लागत हवै। मेला के जलेबी खायें खातिर शोभा सिंह के पुरवा समेत सगले के मड़ई आवत हवैं।
रमेशचंद्र केसवानी अउर अनिल चौधरी का कहब हवै कि तीस साल से एकौ दरकी सफाई नहीं भे आय। तालाब का सुन्दरी करण  होइ जायें तौ कुछौ विकास होय।डी.एम,एस डी.एम अउर बांदा से कमिश्नर तक हिंया जाँच खातिर आयें रहै।पै आज तक कउनौ अधिकारी हिंया सुन्दरीकरण नहीं कराइन आय।
भूरी देवी अउर रेणू बताइन कि जबै हम छोट-छोट रहै  हन तबै से मेला लागत आय। कजेलिया और  दुर्गा माता के मूर्ति  विसर्जन करे  मड़ई हिंया आवत हवै मूर्ति विसर्जन से तालाब मा केमिकल पैदा होइ जात हवै जेहिसे  मछली मर जात हवैं।

बाईलाइन-नाजनी रिजवी

06/10/2017 को प्रकाशित