चित्रकूट जिले के रेहुटा गाँव में स्वास्थ्य केंद्र जाने के लिए तय करनी पड़ती है बारह किलोमीटर की दूरी

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव रेहुंटा मा उपस्वास्थ्य केंद्र नहीं आय। जेहिसे हिंया के मड़इन का दवाई करावें मा बहुतै परेशानी होत हवै। मेहरियन का डिलेवरी खातिर दस किलोमीटर दूरी सोनेपुर जिला अस्पताल जाय का पड़त हवै जेहिसे कत्तौ भी घटना होइ सकत हवैं यहै कारन हिंया के मड़ई उपस्वास्थ्य केंद्र के मांग करत हवैं। सी.एम.ओ. रामजी पाण्डेय का कहब हवै कि एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अस्सी हजार से लइके एक लाख के आबादी मा बनत हवै।तीस हजार के आबादी मा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनत हवै।हमार जिला मा छह सामुदायिक अउर अट्ठाइस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हवैं रैपुरा अउर बरगढ़ मा नयें स्वास्थ्य केंद्र बनिहैं।
भानूमती बताइस कि हमार गांव मा अस्पताल बन जायें तौ मड़इन का आराम होइ जाए। काहे से गर्भवती मेहरियन के रास्ता मा बच्चा होइ जात है अउर कत्तौ कत्तौ बच्चा के जान भी चली जात हवै काहे से सोनेपुर अस्पताल बहुतै दूरी हवै। भगवान दीन बताइस कि जबै मेहरियन के बच्चा होत तौ दस पन्द्रह किलोमीटर दूरी जायें का पड़त हवै रात के समय जीप वाले बहुतै रुपिया मांगत हवैं। हनुमान जी के लगे अस्पताल बनावे के जघा हवै तौ हुंवा अस्पताल बनवा दीन जायें तौ मड़इन का सुविधा होइ जायें। गौरा देवी बताइस कि दस ग्यारह साल से अस्पताल की मांग करित हवै पै अधिकारी नहीं सुनत आहीं। टीकाकरण तौ एनम कइ देत हवैं पै डिलेवरी खातिर जिला अस्पताल जायें का पड़त हवै।
प्रधान प्रतिनिधि जगरूप का कहब हवै कि सी.एम.ओ. का लिखित दरखास दीन रहै पै कउनौ आश्वासन नहीं मिला आय।
रिपोर्टर-सुनीता देवी 

Published on Nov 28, 2017