चित्रकूट जिले के मऊ गाँव में प्रधान विकलांगो की कही भी सुनने को नहीं है तैयार

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव मऊ के ईटा भटठा पुरवा के रज्जन कुमार अउर वहिके मेहरिया दूनौ मड़इ आखिन से बचपनै से विकलांग हवैं। अबै तक उन्हैं कउनौ लाभ नहीं मिला आय। न आवास अउर न तौ शौचालय मिला। इन्हैं बहुते परेशनी होत हवै। न तौ कमा सकत आहीं अउर न तौ मजदूरी कइ सकत आहीं।
रज्जू का कहब हवै कि झोपड़ी मा रहित हवै यहै मा खाब पियब, लकड़ी कंडा अउर यहै मा सोइत बैइठित हवै। दूसर मड़इ के घर मा कारखाना चलावत हौं। मैं तौ कुछ कमा लेत हौं सौ दुई सौ रुपिया, पै मोर मेहरिया का एकौ नहीं देखात आय वहिका खाना बनावै मा बहुते दिक्कत होत हवै।
संगीता बताइस हवै कि पांच साल से खराब पड़ा हवै अउर जउन कुछौ नींक हवै वा बरसात मा चुवत हवै। कसत बसर करी। प्रधान से कहित हवै तौ वा बात का घुमा देत हवै। सुनतै नहीं आय।
प्रधान प्रतिनिधि अमित दिवेदी का कहब हवै कि जउन हमरे मा 2011 के खराब पुरान लिस्ट रहै, वहिमा इनकर नाम नहीं रहा आय। जेहिका नाम रहै वहिका लाभ मिलत हवै। अबै जउन प्रधानमंत्री द्वारा लिस्ट मांगी गे हवै। जउन छूट पात्र अउर अपात्र मड़इ हवैं। उनके लिस्ट मा नाम चढ़ाके भेजवा दीन जइ।
एडीओ पंचायत रूपनारायण का कहब हवै कि जेहिका नाम सूची मा हवै। वहिमा इनकर नाम जोड़ा गा हवै। इनका जल्दी से जल्दी प्रधानमंत्री आवास मिल जइहैं। अब वा विकलांग हवै तौ उनकर विकलांगपेंशन मिल जइ। आवास होइगा हवै। अब शौचालय मिल जइ।

रिपोर्टर: सुनीता देवी

Uploaded on Apr 25, 2018