चित्रकूट जिले की लाइ चना और चटनी का स्वाद नही लिया तो आप पछतायेंगे

दुकानदार आजाद काकहब हवै कि 11 से 12 बजे के आस पास मोर ठेला लागत हवै। कम से कम ग्यारह, बारह साल से ठेला लगावत होइगे हवैं। या मा लाई, चना, मटर, यहै सब मिलाके मिक्चर बनावत हौं। या मैं जबै इलाहाबाद जात रहे हौं तौ मड़इन का देखा करत रहे हौं, बस महूं यहिनतान से सिख गये हौं। यहिमा कत्तौ सात सौ, आठ सौ अउर कत्तौ नौ सौ कमा लेत हौं।

ग्राहक मुंडा सिंह का कहब हवै कि लाई, चना का मिक्चर मिलत हवै अउर साफ-सुथरा देत हवैं, यहै से हिंया खइत हवै।

ग्राहक भूपिंदर बताइस हवै कि मऊ मा ढाई साल से लाई,चना ख़त होइगे हवैं। टेस्ट अच्छा रहत हवै अउर बिना तेल मसाला का मिक्चर नुक्सान नहीं करत आय।  

रिपोर्टर: सुनीता देवी

Uploaded on Apr 25, 2018