आइये करीब से देखें लोहिया समग्र ग्राम घोषित हुआ चित्रकूट के रेहूंटा गांव की हकीकत, जहां के निवासी अनशन करने को मजबूर हैं है विकास के लिए

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव रेहुंटा। 2015 मा रेहुंटा गांव का लोहिया समग्र गांव घोषित कीन गा रहै पै या गांव मा अबै तक कउनौ विकास नहीं आय। यहै कारन गांव के मड़ई 5 सितम्बर से 12 सितम्बर तक डी.एम.आफिस के सउहें धरना प्रदर्शन करिन हवैं। प्रधान जगरूप का कहब हवै कि बालू न मिले के कारन काम नहीं होइ पावत आय। वकील प्रकाश मिश्रा का कहब हवै कि मनरेगा के तहत जउन काम कीन गा रहै वहिके मजूरी अबै तक मड़इन का नहीं मिली आय। बिजली खातिर जउन रुपिया आवा रहै वहिका भी घपला कीन गा हवै रास्ता बनावै के काम मा बहुतै धांधली कीन गे हवै। दुइ साल के कार्याकाल मा रेहुंटा प्रधान एकौ बैठक नहीं कराइस आय।गोमती बताइस कि मनरेगा के तहत तालाब मा खंती का काम दस दिन तक करे रहे हन जेहिमा बारह मड़ई काम करे हन पै अबै तक हमार मजूरी नहीं मिली आय। फुलझरिया बताइस कि शौचालय खातिर छह हजार रुपिया मिल गे हवैं। छह हजार के दूसर क़िस्त खातिर 3 हजार घूस मांगत है। पंचायत मित्र संतोष कुमार का कहब हवै कि मनरेगा का एकौ रुपिया बाकी नहीं आय।

बाईलाइन-नाजनी रिजवी  

20/09/2017 को प्रकाशित