चित्रकूट के बंदर कोल गांव में उठ रहा सवाल

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव बंदर कोल मा रहैं वाले कल्लू का आरोप हवै कि मोर बहिनी बिट्टी का ससुराल वाले 17 जून का फांसी लगा के मार डारिन। चिता भी जला दिहिन पै हमैं सूचना तक नहीं दिहिन। यहिके सूचना कर्वी कोतवाली मा दीन गे, पै आरोपी अबै तक खुले आम घूमत हवै।
अम्रता देवी का कहब हवै कि अपने ननद बिट्टी के शादी मानिकपुर ब्लाक गांव सेमरदहा मा रहैं वाले बुद्ध विलास साथै एक साल पहिले कीने रहौं। ससुराल वाले बिट्टी के शादी होय के बाद दहेज के मांग करत रहैं। कहत रहैं कि तोर बाप महतारी दहेज मा मोटर साइकिल अउर सोने के चैन नहीं दिहिन हवै। जबै तक अपने मइके से येत्ता सामान न लइहै तबै तक यहिनतान परेशान कीन जई। जबैकि हम अपने हैसियत से ज्यादा बिट्टी का दहेज दीने रहेन। यहिके बादो भी उंई दहेल लोभिन का मन नहीं भरा तौ यहिसे 17 जून का बिट्टी का फांसी के फंदा मा लटका दिहिन।
बिट्टी का ससुर मंगल कोटार्य का कहब हवै कि जबै बिट्टी फांसी लगाइस रहै तबै वा समय घर मा कउनौ नहीं रहा आय। वा अपने से आगी लगा लिहिस हवै। हां, या बात सही आय कि लास का जलावैं के समय वहिके मइके से कउनौ नहीं आवा रहै। काहे से कि वहिके मइके मा कइयौ दरकी फोन लगावा गा पै फोन बंद बतावत रहै।
कर्वी कोतवाली सीओ राजेश कुमार का कहब हवै कि ससुराल के पांच लोगन के खिलाफ मुकदमा लिख लीन गा हवै। या मामला के जांच चलत हवै। यहिके बाद उनका जेल भेजा जई।
21/06/2016 को प्रकाशित

आत्महत्या या दहेज हत्या?
कौन है बिट्टी की मौत के लिए ज़िम्मेदार
चित्रकूट के बंदर कोल गांव में उठ रहा सवाल