घोटाले में जांच जारी

(फोटो साभार: विकिपीडिया)
(फोटो साभार: विकिपीडिया)

लखनऊ और नई दिल्ली। प्रदेश में पिछले कुछ सालों से स्वास्थ्य योजना राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में घपलेबाज़ी और भ्रष्टाचार पर जांच चली आ रही है।
30 अप्रैल को जांच एजेंसी सी.बी.आई. के एक अफसर ने बताया कि बसपा सरकार के एक मंत्री ने घूस लेकर इस योजना के तहत मिलने वाली दवाओं को महंगे दामों में खरीदा था। जो दवाइयां सरकार को बाज़ार के दाम पर मिल सकती थीं, उन्हें चुने हुए गुटों से दस गुना दामों में प्रदेश सरकार ने खरीदा था। यही नहीं, इस काम में कोई बाधा ना आए, इसके लिए बसपा के इस मंत्री ने कई जिलों में ऐसे सी.एम.ओ. नियुक्त किए थे जो सवाल ना उठाएं और इस काम में शामिल हो जाएं।
इन सी.एम.ओ. ने नियुक्त होते ही उन्हीं दवाइओं और सामान के आर्डर पास किए जो फिर महंगे दामों में खरीदे गए। सी.बी.आई. के अफसर ने बताया कि इस मंत्री के अलावा, एक पूर्व स्वास्थ्य सचिव आर पूर्व लोक कल्याण मंत्री पर भी जांच चल रही है।