घुटने तक भरा विद्यालय में पानी, छतरपुर में स्कूलों में बच्चों की संख्या हुई न के बराबर