घर बनाउ कि बाड़ी

जिला शिवहर, प्रखण्ड तरिsitamani gaonयानी, गांव रूपवारा। इहां के लोग के कहना हई कि एई गांव में एकोगो शौचालय न हई न सरकारी स्कीम से बन रहल हई।
इहां के मोहम्मद नुरैन, ताजमून खातून, नीशा खातून कहलथिन कि शौचालय न रहे से बरा परेशानी होइय। एक त जमिन कम हय ओई में रहेला घर बनाउ की बाड़ी? सरेह में जायला बच्चा सब न चाहई छई। अगर केकरो तबियत खराब होई छई तब त आफद आ जाई छई। हम गरीब लोग कहां से शौचालय बनाऊ। सुनई छियई कि सरकारी शौचालय बनई छई लेकिन ऐई गांव में कहां बनई छई।
पी. एच. इ. डी के बड़ा बाबु कहलथिन कि अभि डॉक्टर लोहिया स्वच्छता योजना के तहत निर्मल पंचायत पर काम चल रहल हई। जई में एगो परखंड में एगो पंचायत पर काम करे के हई। एक पंचायत के निर्मल कयला के बादे दोसर पंचायत मे काम कयल जतई। अभी के स्कीम के अनुसार 4600 सौ के शौचालय बनावे के हई। जई में लाभार्थी के 900 रूपईया देवे के हई। एई में  घेराबा के साथ उपर छतरी भी देल जतई। जे पहिले न देल जाइत रहलइय। अब आगे के गांव या पंचायत के बारे में अभी कोई चर्चा न हई।