घर बंटवारा खातिर करैं लड़ाई

ब्लाक मा परिवार के साथै
ब्लाक मा परिवार के साथै

जिला बांदा, ब्लाक बबेरू, मोहल्ला नहर कोठी, मजरा जमुनिहा पुरवा अउर कमासिन ब्लाक का गांव मुड़वारा। ई दूनौ गांव मा जमीन का लइके एक महीना पहिले लड़ाई भे रहै।
जमुनिया पुरवा के रजिया कहत है कि पन्द्रह साल पहिले एक बिसुवा जमीन खरीदै रहौं। वा जमीन मोर भाई के नाम रही है। अब भाई मर गा है। मैं बड़ी मेहनत से घर बनाये हौं। मोर दुई बिटिया रहैं तौ कउनौतान शादी गई है। मनसवा घनश्याम पैतिस साल पहिले मर गा रहा है। यहिसे भाई के लड़का चुनबाद, मुन्नी अउर बुटुवा मोर घर मा कब्जा करत हैं अउर मना करैं मा खूबै मारिन हैं। या समस्या मैं  गांव के प्रधान का भी सुनाये हौं। अगर मोहिका घर मा न रहै दइहैं तौ मैं घर मा आगी लगा देहूं।
चुनबाद अउर मुन्नी का कहब है कि हमार घर आय हम न रहैं देबे। हमरे बाप के नाम जमीन है।

प्रधान रामफल त्यागी का कहब है कि रजिया जमीन खरीदिस है। चुनबाद हन का समझावा गा, पै नहीं मानत आय।
यहिनतान कमासिन ब्लाक का गांव मुड़वारा के ज्ञानपति अउर ममता राजरानी बातवत है कि हमरे पास दुई बिगहा चार बिसुवा जमीन है, पै जेठ रूपचन्द्र घर मा रहैं नहीं देत आय। राजरानी कहत है कि मोर मनसवा राजेन्द्र एक साल पहिले मर गा है। अब मैं नमक रोटी खाव के आपन बच्चा पालत हौं। छह लड़का दुई बिटिया है। कउनौ सहारा भी निहाय। ज्ञानपति कहिस कि मोर मनसवा परदेश मा रहत है। गरीबी के कारन हमार घर मा रहब मुश्किल है। घर मा बच्चन के खाय तक का निहाय। इनतान के बरसात मा घर तक नहीं छावैं पावत हन। यहिसे बबेरू तहसील आई हन तौ बी.डी.ओ. का दरखास दिहिन है।
रूपचन्द्र कहत हैं कि मोर जमीन मा घर बना है यहिसे निकारत हौं। बबेरू बी.डी.ओ. बीर भानु का कहब है कि जांच कराई जई अगर इनके नाम जमीन है तौ कउनौ न घर से निकारी ।