गोदना बना फैशन

एक ज़माना था कि गांवों में महिलाओं में शादी के बाद हाथ में गोदना एक परम्परा थी। पर अब यह गोदना हर व्यक्ति के लिए फैषन बन गया है।
बनारस शहर में सावन, भादो के महीने में गोदना गोदने वाले नज़र आते हैं। उनकी दुकानों पर लोगों की भीड़ दिखती है। अब तो लोग हाथ, पैर, पेट, गर्दन, मुंह आदि में भी गोदना गोदवाने लगे हैं। सिंधोरा गांव  के अभय ने अपने बांह में बिच्छू बनवाया है। पूछने पर पता चला कि शौक था इसलिए बनवा लिया है। ऐसा माना जाता है कि गोदना एक ऐसी चीज़ है जो व्यक्ति के साथ जाता है।