गीता और रामायण के श्लोक सीखा रही है, आईआईटी कानपुर की वेबसाइट

फोटो साभार: विकिपीडिया9

अगर आपको गीता, रामचरितमानस, ब्रह्मसूत्र, योग सूत्र के श्लोक को पढ़ने के साथ उनका सही उच्चारण भी सीखना है, तो इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (आईआईटी) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ये सीख सकते हैं। हालांकि संस्थान के प्रोफेसर टी. वी प्रभाकर ने इस पहल को संस्थान की धर्मनिरपेक्षता से नहीं जोड़ने की सलाह दी है। www.gitasupersite.iitk.ac.in पर जाकर आप आईआईटी की इस पहल को देख सकते हैं। इस वेबसाइट का मकसद संस्थान परंपरागत ज्ञान को नये तरीक से देना बता रहा है, यह संस्थान की पुरानी वेबसाइट ही है। लेकिन इसे व्हाट्सएप से प्रसिद्धि मिली। 10 साल पुरानी इस वेबसाइट पर पहले पांच-छह सौ विजिटर्स प्रतिदिन आते थे, पर व्हाट्सएप प्रचार के बाद इस वेबसाइट पर 24 हजार विजिटर्स आने लगे हैं। इस वेबसाइड की शुरुआत 2001 में वाजपेयी सरकार के समय की गई थी। साथ ही इसके लिए 25 लाख रुपये का फंड भी रखा गया था। गीता, रामचरितमानस, योग सूत्र, श्रीराम मंगल दासजी, नारद भक्ति सूत्र के साथ अब वेबसाइट पर वाल्मीकि रामायण का सुंदरकांड और बालकांड डाला गया है। लोगों तक सही अर्थ और अनुवाद पहुंचाने के लिए संस्थान ने विद्वानों से सहायता ली है। अंग्रेजी अनुवाद के लिए बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से मदद ली, जबकि संस्कृत के उच्चारण के लिए स्वामी ब्रह्मनंद की आवाज ली है। अवधी में रामचरित मानस को गाने का काम आईआईटी गुवाहाटी के सदस्य देव आनंद पाठक ने किया है।