गिरफ्तार करैं के करिन मांग

शिप्रा के नादान बच्चा अउर वहिके महतारी, बहिनी, भउजाई
शिप्रा के नादान बच्चा अउर वहिके महतारी, बहिनी, भउजाई

जिला बांदा ब्लाक बबेरू गांव मिया बरौली। बाबूलाल बतावत है कि मोरे बिटिया सतरूपा का ससुराल वाले दहेज के कारन 1 जुलाई 2014 का मउत के नींद सुला दिहिन हैं। जब हम का पता चला तौ अस्पताल मा सील बंद बिटिया के लास मिली रहै।
बाबूलाल कहिस-“मैं आपन दूनौ बिटिया के शादी चार साल पहिले बड़ोखर खुर्द ब्लाक के गांव भूरागढ़ मा कीने रहांै। अब हम ससुराल वालेन के खिलाफ कारवाही के मांग करत हन। सास केसरिया कहत है कि आपस मा मेहरिया मनसवा लड़ाई करिन है तौ सतरूपा टेªन मा कट गे है।” बांदा सी. ओ. विनोद सिंह का कहब है कि सतरूपा टेªन मा कटी है। पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के आधार से कारवाही होई।
हरदोई जिला के गीता बतावत है कि मैं आपन बिटिया शिप्रा के शादी 25 फरवरी 2012 का बबेरू ब्लाक के गांव मुरवल मा श्री कांत साथै करे रहौं। उंई दहेज लोभी मोरे बिटिया का 25 जुलाई 2014 का मउत के नींद सुला दिहिन हैं। अब मैं उनके ऊपर कड़ी से कड़ी कारवाही करिहौं। शिप्रा के सास शिवकांती कहत है हम दहेज नहीं मांगा। हम दूसर घर मा रहे हन जान नहीं पावा। वा फांसी लगा लिहिस है। बबेरू कोतवाली कांस्टेबिल उमाकांत गौतम कहत है 498 ए (दहेज उत्पीड़न) 304 (इलाज के दौरान मउत) मुकदमा लिख गा है।