गर्मी और मच्छर इतने ज्यादा, पानी इतना कम, बिजली तो है ही नहीं चित्रकूट जिले के अगरहुंडा गांव में

जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव अगरहुंडा कहा जात हवै कि मुसीबत कत्तौ अकेले नहीं आवत आय। यहै हाल या गांव का हवै।17 मई का जबै आंधी तूफान आवा रहै तौ बिजली का खम्भा टूट गा रहै। यहिसे एक महीना से बिजली नहीं रहत यहै कारन पाइप लाइन का पानी नहीं आवत आय। बिजली न होय से मड़ई खुले मा सोवत हवै तौ मच्छर काटत हवै। यहै कारन बीमारी फइलत हवै। बिजली के कारन ट्यूबबेल भी मड़ई चला नहीं पावत आही जेहिसे फसल सूखी जात हवै। जिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव अगरहुंडा कहा जात हवै कि मुसीबत कत्तौ अकेले नहीं आवत आय। यहै हाल या गांव का हवै।17 मई का जबै आंधी तूफान आवा रहै तौ बिजली का खम्भा टूट गा रहै। यहिसे एक महीना से बिजली नहीं रहत यहै कारन पाइप लाइन का पानी नहीं आवत आय। बिजली न होय से मड़ई खुले मा सोवत हवै तौ मच्छर काटत हवै। यहै कारन बीमारी फइलत हवै। बिजली के कारन ट्यूबबेल भी मड़ई चला नहीं पावत आही जेहिसे फसल सूखी जात हवै।  विश्वनाथ बताइस कि बिजली के बिना हमार सब काम रुका पड़ा हवै मोबाइल चार्ज नहीं होत न पाइप लाइन का पानी मिल पावत आय। पै बिजली विभाग ध्यान नहीं देत आय। पूनम, चुन्नी देवी अउर एगसिया का कहब हवै कि एक किलोमीटर गौतम बाबा के डेरा से पानी लावै का पड़त हवै सिचाई खातिर पानी नहीं मिलत तौ मूंग  सूखी जात हवै। बिजली न होय के कारन शाम के जल्दी खाना बनावै का पड़त हवै।  लड़का धीरज बताइस कि बिजली नहीं रहत तौ हमे बाहर सोवे का पड़त हवै जेहिसे मच्छर काटत हवै। बिजली विभाग जेई विनोद कुमार बताइस कि आंधी से बिजली खराब होइगे रहै धीरे धीरे सब ठीक होइ जई।

रिपोर्टर- सहोद्रा

08/06/2017 को प्रकाशित