गरीबन का नहीं मिलत कालोनी

s1जिला चित्रकूट, ब्लाक रामनगर, गांव हन्ना विनैका। हिंया के दुजिया अउर बुधिया के मनसवन का मरे चार बरस होइगे हवै, पै उनका सरकारी लाभ नहीं मिलत आय। उंई चार बरस से कालोनी के मांग करत हवैं।
हिंया के रहंै वाली दुजिया अउर बुधिया का कहब हवै कि हम दलित जाति के मेहरिया आहिन। हमार मनसवा चार बरस पहिले खतम होइगे रहै, पै हमैं रहै खातिर घर नहीं आय। या कारन हम प्रधान से कइयौ दरकी कहा हवै, पै वा हमार गरीबी भी नहीं देखत आय। इनतान के घर हमार हवैं कि या बरसात मा हमार घर गिरै के कगार मा हवै।
प्रधान राम प्रसाद का कहब हवै कि 2002 के जेहिकर बी.पी.एल. सूची मा नाम हवै उनका कलोनी मिली अउर जेहिकर सूची मा नाम नहीं आय उनका कालोनी न मिली।
यहिनतान दूसर खबर जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव खण्डेहा का पुरवा अर्जुनपुर के हवै। हिंया के सोना अउर सुलेखा उंई झोपड़ी बना के रहत हवैं, पै उनका अबै तक कालोनी नहीं मिली आय। या कारन उंई दस बरस से कालोनी खातिर परेशान हवैं। हिंया के सोना अउर सुलेखा का कहब हवै कि हम गरीब मेहरिया आहिन। हमका सरकार कइती से कउनौ सुविधा नहीं आय। सरकार तौ गरीबन खातिर सुविधा दीने हवै, पै गरीबन का लाभ नहीं मिल पावत आय। अगर हमैं रहै खातिर एक-एक कालोनी सरकार दइ दे तौ रहै खातिर नींक होय तौ हिंया हुवां न भटकय का परै। प्रधान से कइयौ दरकी कहा हवै, पै वा तौ नहीं सुनत आय। प्रधान भइयन कोल का कहब हवै अबै कालोनी नहीं आई आय। जबै अइहैं तौ कालोनी दीन जइहैं।