गन्ना ना बिकने से किसान हुए निराश

जिला अम्बेडकर नगर और फैजाबाद। इस पूरे क्षेत्रमें गन्ना बेचने के लिए पर्ची न मिलने के कारण गेहूं की खेती पिछड़ गई है। अबपरेशानकिसानलगातार पर्ची के लिए चक्कर लगा रहे हैं।

फैजाबाद के गन्ना किसान भवानीशंकर यादव, पंडित यादव, रामउजागीर यादव और अम्बेडकर नगर के रामदौर, सुरेश्श्, रामनन्द – इन सब लोगों ने बताया कि गन्ना काट के गेहूं की बोआई के लिए हमारे खेत तैयार थे लेकिन पर्ची न मिलने से कटा हुआ गन्ना नहीं बिका और सूखकर बेकार हो बया है। कुछ किसानों ने पर्ची ना मिलने के कारण अभी तक कटाई नहीं की है जिस वजह से गेहूं की फसल पिछड़ गई है। जब तक मिल की सदस्यता समिति के पास जायेंगे तब तक गेहूं की सिंचाई और खाद डालने में देर हो जायेगी। जिन लोगों की नौकरी नहीं है और खेती का ही सहारा है उनका घर का खर्चा चलाने की बड़ी समस्या हो गई है। अम्बेडकर नगर के किसान चिन्तामणि ने बताया कि पास में मिल होने के कारण सोचा था कि फसल आसानी से बिकेगी इसलिए गन्ना ज्यादा बोया था।

मिझौड़ा चीनी मिल के उपप्रबन्धक यशराज सिंह ने बताया कि पर्ची लिस्ट के हिसाब से दी जाती है। मसौधा चीनी मिल के बी.एन. मिश्रा ने भी कहा कि यहां सभी लोगों को पर्ची मिल रही है। दोनों ही मिलों के अधिकारियों ने किसानों पर ही माफिया होने का आरोप लगाया।