गढ़वन मा बदल गे सड़क

रोज गुजरैं बांदा से कानपुर तक के साधन
रोज गुजरैं बांदा से कानपुर तक के साधन

बांदा से चिल्ला एकतिस किलोमीटर अउर बबेरू से कमासिन बीस किलोमीटर सड़क मा गढ़वा ही गढ़वा नजर आवत हैं। इं राज्य मार्ग सड़कैं लगभग पांच साल से खराब हैं। कमासिन क्षेत्र के मड़ई सड़क बनै खातिर धरना प्रर्दशन भी कई चुके हैं, पै विभाग का ध्यान इं सड़कन मा काहे नहीं जात आय?
बांदा से चिल्ला तक मा लगभग पन्द्रह गांव परत हैं। चिल्ला अउर बांदा दूनौ जघा मड़ई हाट बाजार करैं जात है। मड़इन का भारी समस्या का सामना करैं का परत है। या सड़क कानपुर जाय के मेन सड़क है। यहिनतान बबेरू से कमासिन सड़क खातिर परसौली गांव के लल्लू अउर राम चरन का कहब है-“बबेरू से कमासिन जाय मा एक घण्टा के जघा तीन घण्टा लागत है। बीमार मड़ई अस्पताल तक जाय मा अउर बीमार होई जात है। नई गाड़ी वा सड़क मा एक साल भी नहीं चल पावत है। यहै मारे या सड़क मा अतरे दिन एक्सीडेंट जइसे के दुर्घटना होत रहत है।” पी.डब्लू.डी. भाग दुई के अधिषाशी अभियन्ता लाल जी कहिन कि दूनौ सड़क बनै खातिर प्रस्ताव बना के भेज दीन गा है। अबै तक बजट पास नहीं भा आय। बरसात के बाद काम शुरू कई दीन जई।