खेल या खतरा

हज़ारों फीट की ऊंचाई में दो पेड़ों के बीच एक रस्सी में बंधे झूले में झूलना कैसा लगेगा? अगर इन रस्सियों पर लटकर एक पहाड़ी से दूसरी पहाड़ी जान हो तो कैसा लगेगा? आम आदमी के लिए भले ही यह जोखिम भरा हो लेकिन दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो इस तरह के खतरों से खेलने के शौकीन होते हैं। उनका मानना है कि पर्यावरण को समझना है तो पर्यावरण की गहराई, ऊंचाई और उसके रहस्यों को समझना और उनके बीच रहना जरूरी है। इटली के मोंटे पियाना नाम के ऊंचाई वाले एक खूबसूरत इलाके में इन दिनों पर्यावरण प्रेमी अंतरराष्ट्रीय मीटिंग के लिए इकट्ठे हुए हैं। हज़ारों फीट ऊंचाई में खतरों के शौकीन लोग तरह तरह के करतब करते हैं। दो पेड़ों के बीच रस्सियां बांधकर कहीं तो झूले डाले गए हैं, तो कहीं केवल रस्सियां बांधी गई हैं। इन रस्सियों के सहारे लोग एक पहाड़ी से दूसरी पहाड़ी तक लटकेकर जाते हैं। दरअसल दिल की धड़कने बढ़ाने वाला यह खेल शुरू हुआ साल 2012 में। सितंबर में एक हफ़्ते के लिए खतरों के खिलाड़ी इकट्ठा होकर पर्यावरण के मुद्दों पर प्राकृतिक वातावरण के बीच बैठकर या कहें हवा में झूलते हुए चर्चा करते हैं।