खुले में सड़ रहा अनाज

sitamarhi kshetriyaजिला सीतामढ़ी, प्रखंड सोनबरसा। जिले के प्रखंड सोनबरसा में कई दिनों से खुले में पड़ा अनाज सड़ रहा है। पूरे प्रखंड का अनाज रखने के लिए यहां पर केवल एक ही गोदाम है। जबकि नियम के अनुसार एक प्रखंड में कम से कम दस गोदाम होने चाहिए। यह गोदाम भी छह महीने पहले ही बना है। दूसरी तरफ सरकार किसान से अनाज भी भी नहीं खरीद रही है।
यहां के किसान किषोरी प्रसाद, पप्पू कुमार ने बताया कि सरकार की तरफ से अनाज खरीदने के लिए नियुक्त पैक्स अध्यक्ष और किसान सलाहकार धान नहीं खरीद रहे हैं। कई दिनों से खुले में पड़े रहने के कारण पहले ही हमारा काफी धान सड़ चुका है। अगर जल्दी ही अनाज नहीं खरीदा गया तो हमें इसे बाहर बेचना पड़ेगा। उधर किसानों से सीधे अनाज लेकर पैक्स अधिकारी को अनाज बेचने के लिए नियुक्त किसान सालाहकार राजेष कुमार और पंकज सिंह का कहना है कि एक तरफ तो किसानों की बात सुनों दूसरी तरफ अधिकारियों की। दूसरी बड़ी चिंता यह है कि हर किसान सलाहकार को एक सप्ताह में किसानों से पांच हजार कुंटल धान लेकर पैक्स अधिकारी तक पहुंचाना है। मगर एक तरफ गोदाम की कमी है दूसरी तरफ अधिकारी खरीद नहीं कर रहे हैं। गोदाम इतना छोटा है कि एक ही किसान सलाहकार के धान से गोदाम भर गया है। अब बाकी का अनाज कहां रखा जाए?
कार्यपालक सहायक राहुल कुमार कहना है कि गोदाम बनाना खाद्य आपूर्ति पादाधिकारी का काम है। इसमें हम क्या करें। रही अनाज के बाहर खुले में पड़े होने की तो गोदाम में जगह न होने के कारण जिला प्रंबधक और बीडीओ श्री कांत ठाकुर के मौखिक आदेष के बाद ही इसे बाहर रखा गया है।