खुले मा रहैं का मड़ई

gonv 2 copyउत्तर प्रदेश के बुंदेलखण्ड इलाके के गांव मा या समय लगभग दुइ महीना से घरन मा आगी बहुतै जयादा लागत हवै।
यहिकर उदाहरण हवै चित्रकूट जिला, ब्लाक पहाड़ी गांव अर्की, मजरा करैदिहाई मा 25 अप्रैल का आगी लाग गे रहै। यहिसे लगभग बासठ घरन के गृहस्थी जल के राख होइगे रहै। मड़ई घर से बेघर होइगे हवैं। 24 मई का उत्तर प्रदेश कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव आय रहैं। उंई करौंदिहाई मजरा के मड़इन का आवास दें का कहिन हवैं।
सोचै वाली बात तौ या हवै कि आवास बनै मा तौ महीनन लाग जइहै, पै मड़ई अबै इनतान के चिचिलात धूप अउर गर्मी मा खुले मैदान मा अपने परिवार का लइके रहैं का मजबूर हवै। उनके खातिर जिला स्तर का शासन प्रशासन काहे ध्यान नहीं देत अउर उनके समस्या का खतम करै खातिर काहे कउनौ पहल नहीं करत आय? अबै तो मड़ई गर्मी से बेहाल हवैं। यहिके बाद अगले महीना से बरसात होय लागी तौ पानी से भीगत रहि हैं? आवास तौ जबै तक बनिहैं तबै तक मा कइयौ लोग लू लागैं अउर बरसात मा पानी से भीगै मा बीमार होय का खतरा बना रही? यहिसे जरुरी हवै कि जिले स्तर के अधिकारी उनके खातिर नींक व्यवस्था का इंतजाम करैं के कोशिश करैं के जरुरत हवै?
नही तौ का फायदा इनतान के आवास दें से?