खाता मा भेज दीन गा रुपिया

Exif_JPEG_420जिला चित्रकूट, ब्लाक रामनगर,गांव पहाड़ी। हिंया के मड़ई तालाब मा पांच महीना पहिले बीस मड़ई काम करिन रहैं। उनका अबै तक मजूरी नहीं मिली आय।
हिंया के सन्तोष, लवलेश, अब्दुल, सोनम अउर किताबुन का कहब हवै कि तालाब मा काम कीने रहेन तौ अबै तक रूपिया नहीं मिला आय। रोजै मजूरी करित हन तौ खाना खर्चा चलत हवै। या साल खेत मा कुछौ गल्ला नहीं भे आय। मजूरी का रुपिया लें खातिर प्रधान ननकी देवी से कइयौ दरकी कहे हनख् पै अबै तक रुपिया नहीं मिला आय।
प्रधान ननकी देवी के मनसवा सैज्जदीन का कहब हवै कि अपने कइती से लिस्ट बना के ब्लाक मा भेज दीन गे हवै।
रामनगर ए.डी.ओ.चन्द्रभान गुप्ता का कहब हवै कि फरवरी के महीना मा बजट नहीं रहै। अबै सरकार कइती से मजूरी का रुपिया नहीं आवा हवै। यहिसे उनका रुपिया नहीं दीन गा हवै।
मनरेगा विभाग के अधिकारी सिद्धार्थ गुप्ता का कहब हवै कि नियम हवै कि सरकार कइती से पन्द्रह दिन मा रूपिया मिल जाय। पै पांच सौ बयासी मजूरन का फरवरी का रूपिया नहीं आवा रहै,पै अब आगा हवै अउर उनके खाता मा रुपिया भेज दीन गा हवै।
ब्लाक कर्वी,गांव भरकोर्रा के रहैं वाले श्याम लाला का आरोप हवै कि मनरेगा के तहत फरवरी के महीना मा साठ दिन तक खड़ण्जा मा काम कीने रहौ, पै अबै तक वहिके मजूरी का रुपिया नहीं मिला हवै। यहिसे मजूरी का रुपिया लें खातिर अधिकारिन के चककर लगावैं का परत हवै।
माया कहिस कि पोखरिया तालाब मा बीस दिन खंती खोदै का काम कीन रहौं वहिके अबै तक मजूरी का रुपिया नहीं मिलत आय। हम मजूर मड़ई रोज के खाय कमाये वाले मड़ई आहिन।
नथिया अउर शांति देवी का कहब हवै कि यहिनतान हमार भी मजूरी का रुपिया नहीं मिला आय। मजूरी का रुपिया लें खातिर पंचायत मित्र बृज विलास से कहित हन तौ वा कहि देत हवै कि का हमरे लगे तुम्हार मजूरी का रुपिया धरा हवै। सरकार कइती से नहीं आवा आय तो का अपने लगे से रुपिया दइ देंव। हमार बहुतै खून पसीना का रुपिया हवै। अगर मजूरी का रुपिया मिल जाये तौ परिवार के लोगन का कुछौ सहारा होइ सकत हवै। पता नहीं लागत कि हमरे साथै इनतान काहे कीन जा रहा हवै। नरेगा अधिकारी सिद्धार्थ गुप्ता का कहब हवै कि मनरेगा के तहत फरवरी के महीना का पच्चीस लोगन के मजूरी अबै दें का हवै। बजट आ गा हवै।

रिपोर्टर – सहोद्रा देवी और नाजनी रिजवी