खतरा का न्यौता देत पुलिया

महुआ ब्लाक के पास जरजर पुलिया
महुआ ब्लाक के पास जरजर पुलिया

जिला बांदा। बांदा से अतर्रा जाय वाली मेन सड़क मा महुआ ब्लाक के पास अउर बांदा से महोबा जाय वाली मेन सड़क मा काशिम ढ़ाबा के पास बनी दूनौ पुलिया तीन महीना से जरजर हैं। बड़ी दुघर्टना होई सकत है। जानत होय के बाद भी पी.डब्लू.डी. विभाग ध्यान नहीं देत आय।
महुआ गांव के चुनबाद अउर चुन्नू बतावत हैं कि पुलिया नीचे का धंस गे है। दुकानदार मिट्टी डाल के सड़क के बराबर कई दिहिन है। साधन निकरत हैं तौ लागत है कि पुलिया तरे का न घंस जाय। मैजिक चलावत वाले खुरहण्ड गांव के सुरेश अउर हीरालाल कहत हैं कि पुलिया से गुजरैं मा खतरा देखात है। मटौंध से बांदा आवै वाली सवारी सुदामा अउर बलबीर कहत हैं कि या पुलिया से रोज का हजार साधन निकरत हंै। पुलिया जरजर होय से साधन निकरै मा खतरा होय का डर बना रहत है। अरबई गांव से आवा संतोष बतावत है कि या सड़क मा सैकड़न ट्रक ठाड़ रहैं के मारे जाम लागत है। ऊपर से या पुलिया संकरी मोड़दार अउर ऊंचा खाली है।
पी.डब्लू.डी. का राष्ट्रीय मार्ग खण्ड के सहायक अभियन्ता आर.डी. सिंह कहिन कि अतर्रा कइत से सड़क बनैं का काम शुरू है। सड़क बनैं के साथै साथ महुआ पुलिया अउर महोबा सड़क के पुलिया भी गर्मी तक दूनौ पुलिया बन जइहैं।