कोलकाता में 10 छात्राओं पर लगाया समलैंगिक होने का आरोप

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

कोलकाता के एक निजी विद्यालय ने 10 छात्राओं पर समलैंगिक (लेस्बियन) होने का आरोप लगाया है। इसके बाद छात्राओं के माता-पिता ने स्कूल में आकर हंगामा कर दिया। इस दौरान अभिभावकों की विद्यालय की संचालिका के साथ काफी बहस भी हुई।
वहीं, विद्यालय संचालिका ने परिजनों के आरोपों को नकार दिया। उनका कहना है कि कुछ छात्राओं ने आरोपी 10 छात्राओं के खिलाफ शिकायत की थी। इसके बाद मैनेजमेंट ने आरोपी छात्राओं को बुलाया और उनसे पूछताछ की तो उन्होंने यह बात कबूल कर ली। स्कूल संचालिका ने कहा कि संवेदनशील मामला होने के कारण आरोपी छात्राओं से यह बात लिखित में भी देने को कहा।
अभिभावकों ने स्कूल मैनेजमेंट के आरोपों को बेबुनियाद और झूठा करार दिया है। एक अभिभावक ने कहा कि अगर 2 लोग हाथ में हाथ डालकर या कंधे पर हाथ रखकर चल रहे हैं, तो इसका मतलब ये नहीं कि दोनों समलैंगिक हैं। स्कूल संचालिका ने कहा कि मामले के खुलासे के बाद हमने छात्राओं के अभिभावकों को इस मामले पर चर्चा के लिए स्कूल बुलाया। हमारा उद्देश्य सिर्फ ये था कि अभिभावकों से बात करके छात्राओं को सुधार जाए। लेकिन इस मामले से आरोपी छात्राओं के अभिभावक भड़क गए और उन्होंने हंगामा कर दिया।