केकरे भाग्य कै खुलाथै पिटारा

f sampadkiyeयहि समय चुनाव कै प्रक्रिया जोर शोर से चलत बाय। कहू नामांकन तौ कहू चुनाव चिन्ह वितरण हुवत बाय। नये प्रतशियन मा काफी उत्तेजना देखै का मिलत बाय।
गांव मा जाइके वोटरन से वादा भी करत अहै। बिजली लगवाय दियब। नाली, सड़क के तौ कउनौ समस्या न रहे। जैसे तमाम बड़ा बड़ा वादा करत अहै। काफी रात रात तक चुनावी प्रक्रिया चलत बाय। जेहमा जनता कै नींद भी हराम भै बाय। अबहीं निशान नाय मिला बाय निशान मिलै पै दिन रात प्रचार प्रसार होये। अब देखै का ई बाय कि केकरे भाग्य कै पिटारा खुलाथै। बहुतै प्रत्याशी आपन भाग्य आजमावत अहै। वादा तौ सब बड़ा बड़ा कराथिन लकिन असल मा पूरा केहू नाय करत।
पिछली प्रधानी मा भी मनई बड़ा बड़ा वादा करे रहिन लकिन आज तक पूरा नाय भै। नाली खडण्जा,बिजली, पानी हर तरह कै समस्या बाय। जीतै के पहिले सब गोड़ धरै आवाथिन। जीतै के बाद केहू नाय देखात। उल्टा जनता उनसे काम करावै के ताई चक्कर लगावाथै। लकिन अब जनता का नया प्रधान चुनै का बाय। ऐसा प्रधान जवन विकास कराय सकै। देखै का बाय कि केकरे भाग्य कै पिटारा खुलाथै।