कुछ नए का करें दिल थामकर इंतज़ार – आपका खबर लहरिया बदल रहा है

खबर लहरिया पत्रकार
खबर लहरिया पत्रकार

खबर लहरिया के छह जि़लों की पैंतिस महिला पत्रकारों की एक मीटिंग में तय हुआ कि देश के एकमात्र स्थानीय भाषा के अखबार को नया रूप देने का समय आ गया है। कुछ ही महीनों में आपका पसंदीदा अखबार नए रंग-रूप में नई खबरों के साथ आ रहा है।
इसकी तैयारी में आपके सहयोग का हमें इंतज़ार है। अपने विज्ञापन और सुझाव हमें लिख भेजिए। हमें उम्मीद है कि पाठक भी उतने ही उत्साहित हैं जितने कि हम।