किसी का 15 हज़ार, किसी का 40! बिजली का बिल है, या कोई मनमानी?

जिला बादा, ब्लाक तिंदवारी, सादीमदनपुर|जउन मड़इन का खाये खातिर दुई जून के रोटी नहीं आय|उंई मड़इन के हजारन माँ बिल आवत है गरीब मड़ई येत्ता बिल कहां से भरिहैं|बिजली विभाग एस.डी.ओ के के कमल का कहब है कि या समस्या का हल करे मा दुइ महीना का समय ल़ागी यहिके खातिर मीटर बदले जइहैं|
मोहम्मद अहमद का कहब है कि पहिले तीन सौ बिल आवत रहै अब मड़इन के 15 से 72 हजार रुपिया का बिल आवत है अब हमार दुइ हजार रुपिया बिल आवत है| बिजली कनेक्शन कराये 10 साल होइगे है|जबै हमार सही बिल अई तबै हम बिल भरबै|गोमती प्रजापति बताइस कि मजूरी करे मा तीन सौ मिलत है दुई सौ खर्चा होइ जात है|सौ रूपया बचत है तौ कसत बिल भरबै|ज्यादा बिल भेज के जनता लूटत है|
रजुलिया अहमद का कहब है कि बिल न जमा करे मा विभाग नोटिस अउर कुर्की के धमकी देत है|यहै कारन बच्चन का पेट काट कर कउनौ तान बिल जमा कइ दीन हन|सरकार कहत है अच्छे दिन आवत है तौ का यहिनतान के अच्छे दिन होत है?
बाईलाइन-शिवदेवी
08/09/2017 को प्रकाशित