किसान बही खाता मा सेंत मा मिलत

c taja -2 shevrampurजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, गांव भैसौंधा अउर बंशीपुर पुरवा। हिंया किसान कहिन कि बही खाता मा जई मतलब जानवरन का खाय वाले चारा के बीज 7 नवंबर से बांटी जात हवै,पै फेर भी किसान या बीज लें खातिर हिंया हंवा भटकट फिरत हवै।
भैसौधा गांव के कमलेष कुमार का कहब हवै कि मोहिका जई पषु विभाग से नही मिलत आय पन्द्रह दिन मा चार दरकी जई लें गये हौ, पै खाली हाथ लउटै का परत हवै।
बंशीपुर पुरवा के रतनिया अउर चंपा का कहब हवै कि जई मिल जात तौ अपने खेत मा बो लेतेन। यहिसे हमार जानवरन का चारा होइ जात अउर जानवर हिंया हुवा घुमत न फिरत। पषु विभाग षिवरामपुर से जई नहीं मिलत आय। डाक्टर कहि देत हवैं कि पहिले किसान बही खाता अउर पहिचान पत्र के फोटो कापी अउर जमीन के कागज लइके आव।
षिवरामपुर पषु अस्पताल के डाक्टर देवनारायण सिंह चैहान कहिन कि अन्ना प्रथा खतम करैं खातिर सरकार कइती से किसान का बही खाता मा जई(बीज) दीन जात हवै जउन किसान बही खाता लइके आवत हवैं। उनका दीन गे हवै। लगभग आठ कुटंल जई बंट गे हवै। डेढ़ कुंटल अउर बची हवै। वा भी बांट दीन जई। कुछ किसान अपने एकै परिवार के मड़ई जई मांगत हवै।