किसान कर्जमाफी प्रमाणपत्र मिलने के बीस दिन के बाद बांदा जिले के किसान ने की आत्महत्या

जिला बांदा सरकार किसानन के कर्ज माफी का ढिढ़ोरा पीटत है। यहिके खातिर किसानन का प्रमाण पत्र बनवाइस है अउर  किसानन का बांटिस है पै या योजना केत्ती सफल है? बांदा के युवा किसान अनुज बाजपेई कर्ज माफ़ी का प्रमाण पत्र मिले के  बीस दिना बाद आत्महत्या कइ लिहिस है।परिवार वालेन का आरोप है कि अनुज 27 अक्टूबर का कर्जा के कारन आत्महत्या करिस है।
अनुज के चाचा प्रेम किशोर अउर बाप किशोर का कहब है कि जबै घटना भे रहै तौ वा समय घर मा कोउ नहीं रहा आय। अनुज के महतारी दरवाजा के लगे बइठे  रहै, अनुज भीतर टी.वी.देखत रहै पता नहीं केत्ती देर पंखा मा फांसी लगा के आत्महत्या कइ लिहिस। चचेरा भाई आलोक बताइस कि दुइ साल पहिले लड़की के शादी करे खातिर बैंक से कर्जा ले गे रहैं पै तबै बैंक वाले कहिन कि तुम्हार एक लाख से ज्यादा कर्जा है दस-बीस हजार का कर्जा अउर मिल सकत है।डी.एम कहत रहै कि कर्जा पूरा माफ़  कीन जई पै सड़सठ हजार छह सौ रुपिया कर्जा बस माफ़ कीन गा रहै अबै चालिस हजार का कर्जा है।
डी.एम महेंद्र बहादुर सिंह  का कहब है कि सुसाइड नोट बस कर्जा वाली बात लिखी रहै गाँव के कउनौ मड़ई कर्जा के बात ड़न बताइन आय या घटना के  जांच कराई जई।

बाईलाइन-गीता 

01/11/2017 को प्रकाशित