कितना समझी डिजिटल इंडिया को असली इंडिया? महोबा में डिजिटल मेले में हम मिलें लोगों से

जिला महोबा, शहर महोबा 14 अप्रैल को बाबा भीमराव अम्बेडकर जयंती के अवसर में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर में डिजिटल बढ़ाबे के लाने भीम एप को लांज करो। एसो ही कार्यक्रम देश भर में आयोजित करो गओ।
प्रधानमंत्री डिजिटल इंडिया के माध्यम से गांवन और शहरन में सब काम ऑनलाइन कराबे की बात पे जोर दे रए। लेकिन देश में 28 प्रतिशत महिलाओं के पास फ़ोन नइया।
जबके दूसरी तरफ देखो जाबे तो फ़ोन की जनसंख्या एक अरब से ज्यादा हो गयी और आज भी कछू आदमीयन के पास स्मार्ट फ़ोन नइया एसे में डिजिटल होबो केसे सम्भव हे। महिलाये भी जाको फायदा और नुकसान दोई तरह से ले रई।
जोई कार्यक्रम जिला महोबा में भी करो गओ जीमे आदमियन को लेनदेन की जानकारी दई गई।
सरगम खरे ने बताई के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केबो हे के गांव गांव तहसील हर स्तर पे छोटे से छोटो आदमी होबे बाको जा एप से जोड़ो जाबे।
शुभम ने बताई के एक डेढ़ महीना से हम ओरे कैंप लगा रए ग्रामीण क्षेत्रन में आदमियन को जाकी जानकारी दे रए के अपने आधारकार्ड बैंक में लगाओ। कछू आदमियन ने लगा दए और कछू लगा भी रए।
राकेश गोस्वामी विधायक ने बताई के हमने आम जनता से और सब सरकारी अधिकारी से सब से अनुरोध करो के जो जनता सीधे भुगतान से जुड़बे कार्यक्रम चलाबे और हर क्षेत्र जा से परिचित नइया उनको परिचित कराबे। जासे लाभ हुए जेब नइ कट हे रुपइया सुरक्षित रेहे।
रानी ने बताई के फ़ोन हमाय पास नइया हमाय मोड़ी मोड़न के पास हे।
कविता ने बताई के जैसे दुकानदार छूट नइ देत तो महिलाओ को केने परत के कम कर लो रुपइया और जेसे ऑनलाइन करत तो उते खुद छुट मिलत के बीस प्रतिशत छूट हे के पचास प्रतिशत हे। और जेसे कोऊ को बाजार जाबे को टेम नइया कछू खरीदबे को तो ऑनलाइन मगा सकत।
आरती ने बताई के जो जे फ़ोन चले हे जिनसे ऑनलाइन सामान मगा सकत और मगा लेत बाहार नइ जाने परत काय के न अब बहार जा पात तो न कछू कर पात।
प्रेमलता ने बताई के जेसे हम कछू सामान ऑनलाइन मंगवात और बो सीधो घरे आ जात तो देख नइ पात के अच्छो हे के ख़राब हे। और अगर दुकान पे लेबे जाओ तो देख तो लेत के सही हे के नइया।

रिपोर्टर- सुनीता प्रजापति