कितना मिलता है लाभ

images
(फोटो साभार: विकिपीडिया)

सीतामढ़ी। यहाँ के सुखसागर अस्पताल मे 28 अप्रैल 2013 को विचार गोष्टी  की गई। जिसका विषय था स्मार्ट कार्ड पर मिलने वाला लाभ कितना जनता तक पहुंच पाता है। इस गोष्टी  में लगभग बीस लोग उपस्थित थे।
सोनबरसा की सविता का कहना है कि मेरी सास के पेट में दर्द था और साथ ही बहुत कमजोरी थी। लेकिन डाक्टर ने यह कह कर वापस भेज दिया कि इस कार्ड पर आपरेशन होता है। आप ही बतायें ऐसे कार्ड का क्या करें। निमाही के सरस्वती देवी का कहना है मुझे मलेरिया हो गया था लेकिन उसका इलाज भी उस कार्ड से नहीं हुआ ऐसा कौनसा कार्ड है कि सिर्फ आपरेषन ही होगा।
डाक्टर नवल किशोर सिंह बोले कि सीतामढ़ी जिले में  बी.पी.एल. परिवार की संख्या कुल जनसंख्या का सत्तर प्रतिशत है जो अशिक्षा कुपोषण जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं। इसलिए भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थय बीमा योजना लागू की गई है। जिसमें बी.पी.एल. परिवार वालों को स्मार्ट कार्ड दिया जाता है। इस कार्ड में लाभर्थियों की अधिकतम संख्या पांच होती है। एक साल में तीस हजार तक का इलाज चयनित अस्पताल में किया जाता है।
2011-12 मे लगभग चार लाख स्मार्ट कार्ड बने। जिसमें मात्र पन्द्रह हजार स्मार्ट कार्ड उपयोग में लाये गये। अब सवाल ये उठता है कि क्या बस इतने ही परिवार एक साल में बीमार पडे? डाक्टर श्रीनिवास कुमार बोले इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए हमें लोगों को जागरूक करना होगा। इसके लिए हम पहले जनप्रतिनिधि को जागरुक करेंगे। जो अपने क्षेत्र में जा कर लोगों को जानकारी दें। अगर लोगों को इसका लाभ नहीं मिला है तो इसके लिए जिम्मेदार कौन है।

स्मार्ट कार्ड  पर इलाज

स्मार्ट कार्ड पर जो इलाज होते हैं वे इस प्रकार हैं – अगर आपरेशन की जरूरत है तो हर आपरेशन की राषि निर्धारित है। अगर आपरेषन की जरूरत नहीं हो तो हर दिन 500 रुपया भुगतान किया जाएगा। अगर और कोई समस्या हो तो इन्टरनेट से बात कर के इलाज की राषि निर्धारित कर सकते हैं। लेकिन बीमा कम्पनी मात्र तीस हजार ही भुगतान करेगी।