का होत योजना खा बने

उत्तर प्रदेश सरकार हर दइयां कोनऊ न कोनऊ नियम लागू करत रहत हे पे ऊखो लाभ जनता खा कित्तो मिलत हे ई बात को कोनऊ ध्यान नई देत हे। हम बात करत हे आय जाति ओर निवास प्रमाण पत्र ओर कोनऊ फारम आनलाइन करे के बारे मे। अब सरकार कोनऊ भी काम बिना आय जाती निवास प्रमाण पत्र के नई करत आय। एई से लड़का लड़की आपन वजीफा ओर कामन के लाने ही प्रमाण पत्र बनवायें खे लाने फारम भरत हे। जीखो नियम हे कि बीस दिन में प्रमाण पत्र बन जायें खा चाही। पे लड़का लड़की के फारम भरें के महीना बीते के बाद भी नई बने हे।
सवाल जा उठत हे कि जभे बीस दिन को प्रमाण पत्र बने खा नियम हे तो दो महीना के बाद भी नई मिलत आय तो अधिकारियन खा जानकारी लेय खा चाही?
सरकार एक केती बिना प्रमाण पत्र के कोनऊ काम नई करत हे, दूसर करम चारी आपन जिम्मेंदारी से पल्ला झाड़त हे। जीखो कारन आदमियन खा लाभ के जघा नुक्सान उठायें खा परत हे। अगर सरकार नियम लागू करत हे तो अपने काम की व्यवस्था करें ओर करमचारियन खा देखे खा चाही कि कित्तो ऊ काम करत हे ओर कित्तो लाभ आदमियन खा मिलत हे। जित्तो लड़का लड़की खा लाभ नई मिलत हे उत्तो ऊखो खर्च हो जात हे। गांव के मजदूर आदमियन खा तो एक-एक रूपइया मुश्किल परत हे। जीसे गरीब मजदूर परिवार के लड़का लड़की वंचित रेह जात हें काय से पेहले इत्ते रूपइया किते से पाहें कि आय जाति ओर निवास प्रमाण पत्र बनवायें खा दस दइयां लगा चक्कर के वजीफा को फारम आनलाइन करा सके।