काल्पनिक घटनाओं से भरी “ढिशूम”

dhishum wफ़िल्म: ढिशूम
निर्देशक: रोहित धवन
कलाकारः जॉन अब्राहम, वरुण धवन, अक्षय खन्ना और जैकलीन फर्नांडिस

“ढिशूम” ऐसी फिल्म है जो ठीक से बन नहीं पायी है इसलिए आपको झूलती नजर आएगी। फिल्म की कहानी अच्छी है लेकिन उसे ठीक से फिल्माया नहीं गया है।
साकिब सलीम एक क्रिकेटर हैं और उनका अपहरण हो जाता है। दो दिन बाद भारत का पाकिस्तान के साथ क्रिकेट मैच है। फिर हर जगह सिगरेट पीने वाले अधिकारी जॉन अब्राहम को इस क्रिकेटर को ढूंढने का काम सौंपा जाता है, जो उसे बहुत ही खामोशी के साथ करना होता है। वह एक निकम्मे साथी वरुण धवन को अपने इस काम में मदद के लिए चुनता है।
इस काम में एक छोटी-मोटी चोरनी जैकलीन उनकी मदद करती है। विलेन के तौर पर अक्षय खन्ना का आगाज होता है, और उनके काम से ज्यादा उनका नाम सुनकर मजा आता है ‘वाघा।’ फिल्म पूरी तरह से रोहित शेट्टी के अंदाज में चलती है, कुछ कॉमेडी का छौंक लगाओ, शानदार एक्शन घुसाओ और कहानी को भूल जाओ।
जॉन अब्राहम एक्शन अच्छा कर लेते हैं और एक्टिंग भी उनकी बढ़िया ही है। सख्त अधिकारी के तौर पर वे अपने किरदार में एकदम सही हैं, और उन्होंने अपने रोल को बखूबी निभाया भी है। वरुण धवन को फिल्म में हंसाया है और परिणीति चोपड़ा के साथ उनका डांस नंबर हमें गोविंदा के अंदाज के गानों की यादें ताजा कर देता है।
जैकलीन फर्नांडिस का रोल भी ठीक है, उन्हें जो सौंपा गया है, वह उसे निभाने की भरपूर कोशिश करती हैं। अक्षय खन्ना विलेन के किरदार में लौटे हैं लेकिन वह डरा नहीं पाते हैं और वह एक्टिंग तो अच्छी कर ही लेते हैं लेकिन वह बहुत कमजोर और पुराने टाइप का है।
इस फ़िल्म का बजट 60-70 करोड़ रुपये के बीच है। इस तरह फिल्म के लिए बॉक्स ऑफिस पर सफर आसान नहीं रहेगा। लेकिन यह है कि अगर दिमाग पर जोर नहीं डाला जाए तो ढिशूम एक बार देखी जा सकती है।