कानून और न्याय के क्षेत्र में पहली बार ‘गीता मित्तल’ को मिला नारी शक्ति सम्मान

दिल्ली हाई कोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल को आज महिला दिवस के दिन, नारी शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।
यह पहली बार है कि किसी महिला को कानून और न्याय के क्षेत्र में महिलाओं के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है।
यह पुरस्कार उन्हें राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति द्वारा दिया जाएगा।
बता दें कि गत अप्रेल में उन्होंने मुख्य न्यायाधीश का कार्यभार संभाला था। उनके कार्यकाल में हाई कोर्ट की कार्यशैली में काफी बदलाव देखने को मिला है। वह न्यायपालिका में पारदर्शिता को लेकर काम कर रही हैं।
अन्य पुरस्कार विजेता डॉ. मालवीका अय्यर को दिया जायेगा जो एक बम ब्लास्ट में जीवित पायी गई महिला और प्रसिद्ध विकलांगता अधिकार कार्यकर्ता हैं।
गौरतलब है कि नारी शक्ति पुरस्कार भारत के राष्ट्रीय सम्मान की एक श्रृंखला है, जो अपनी असाधारण उपलब्धि के लिए व्यक्तिगत महिलाओं को प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार महिलाओं और बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा छह श्रेणियों में दिया जाता है।