क़र्ज़ के बोझ ने ली बांदा के किसान की जान

जिला बांदा, ब्लाक बड़ोखर, गांव मटौंध कर्ज के बोझ के कारन एक अउर किसान के जान चली गें है।कर्जा  ज्यादा होय के कारन 3 जुलाई का अमर सिंह के दिल का दौरा पड़े से मउत होइ गें हैं।वहिके परिवार वाले कहत हैं कि गांव के साहूकार अउर बैंक का कर्जा वहिके ऊपर रहा हैं वहिके मेहरिया भी बीमार रहत रहै।जिला बांदा, ब्लाक बड़ोखर, गांव मटौंध कर्ज के बोझ के कारन एक अउर किसान के जान चली गें है।कर्जा  ज्यादा होय के कारन 3 जुलाई का अमर सिंह के दिल का दौरा पड़े से मउत होइ गें हैं।वहिके परिवार वाले कहत हैं कि गांव के साहूकार अउर बैंक का कर्जा वहिके ऊपर रहा हैं वहिके मेहरिया भी बीमार रहत रहै। अमर सिंह एक छोट किसान रहा है वहिके लगे रोजगार का दूसर साधन नहीं रहा आय।अमर सिंह के मेहरिया शीतला बताइस कि मोर मनसवा का कर्जा अउर मोर बीमारी के बहुतै चिंता रहि हैं।बैंक मा कर्जा रहा है अउर गांव मा भी कर्जा लिए रहै है कर्जा वाले आपन कर्जा मांगत रहै यहै चिंता मा मोर मनसवा के जान चली गे है। लड़का राहुल अउर अजय सिंह बताइस कि अमर सिंह के लगे खेती कम रहि है अउर खेत मा पैदावार भी कम होत रहै यहै कारन वा बहुतै चिंता करत रहै जेहिसे वहिके जान चली गे है। लेखपाल छोटेलाल बताइस कि अमर सिंह एक साल से बीमार रहा है वहिके बांदा मा इलाज चलत रहै।परिवारिक लाभ का रुपिया देवावा जई।इनतान के घटना देख के लागत है कि सरकार के कर्ज माफी योजना फेल है।

रिपोर्टर- मीरा देवी

Published on Jul 10, 2017